4. जियाउल हक जी के दुगो कबिता (6,7) - माईभाखा कबितई प्रतियोगिता


         1.  सड़क सुरक्षा

सुनी सुनी ई बात, ए बाईक वाला भईया।
खुशहाल बनाई, आपन जीवन के नईया।
------
तेज गाड़ी सड़क पर, जन दौड़ाई।
अपना साथ दोसरो के, जीनगी बचाई।
------
घर पर केहु करत बावे, राउर इंतजार हो।
तहके कुछु हो जाई, कईसे चली परिवार हो।
-----
हेल्मेट जुता पेहेन के भईया, बाईक के चलाई जी।
सड़क प चले वाला गाड़ी के, हवा मे जन उड़ाई जी।
--------
अपनो जान गवाएम रउवा, दोसरो के जान ले जाएम जी।
अगर हिरो बाजी मे, बाईक तेज चलाएम जी।
--------
सुरक्षा मंत्र से जिया के, एगो ईहे त निहोरा बा।

तहरे से परिवार तहार सूरज नियन अजोरा बा।
▪▪▪▪▪▪▪

2.  आपन आपन मजहब माने छूट बावे
       ----------------------------------------
अलग-अलग बा भाषा फिर भी ना कवनो फूट बाबे।
आपन-आपन मजहब  माने के इहवा छूट बाबे।
-------------------------------------------------------
फिर काहे  इहवा होखत भाई  शोर सराबा बा।
मजहब के नाम पर काहे होखत खून खराबा बा।
------------------------------------------------------
कुरान होखे या वेद पुराण सब मे एके उपदेश बावे।
फिर काहे मानव मानव से होखत इहवा द्वेष बावे।
------------------------------------------------------
एक दुसरे के मारत बारS ई कईसन आजादी बा।
सम्भाल जा ए भाई एसे वतन के होत बर्बादी बा।
--------------------------------------------------------
हिन्दू-मुस्लिम, सिख-इसाई सबके खून बा ई माटी मे।
ई कईसन जहर घुलल बा जी काश्मीर के घाटी मे।
----------------------------------------------------------
अंतिम लाइन मे सब लोगन से देखी इहे निहोरा बा।
बचल-खुचल अब रहे दी ई भारत माई के सिंगोरा बा।

-------------------------------------------------------------
जियाउल हक
जैतपुर सारण बिहार
पिन- 841205
मो- 8128537330

टिप्पणियाँ

  1. असुद्धि पर धियान देवे के ताक बा !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. जिआउल हक जी....धेयान देईं...जय-जय...असुद्धि ठीक क के रउआँ भेज सकेनीं...फेर ओके इहां डाल देहल जाई...जय-जय

    उत्तर देंहटाएं
  3. जी आभार। हम अशुद्धि के दूर करेके प्रयास करेम

    उत्तर देंहटाएं
  4. रचना बहुत सुन्दर लगली सन

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

1. पंकज यादवजी के दुगो कबिता (1, 58) - माईभाखा कबिताई प्रतियोगिता

सुनतानी जीं - माईभाखा कबितई प्रतियोगिता घोसित हो गइल।

अब कवितई (कविता प्रतियोगिता) के भाँजा