8. दिलीप पैणाली जी के एगो अउर कबिता-गीत (27) - माईभाखा कबितई प्रतियोगिता

नयना से नीर ढरे

नयना से नीरऽ ढरे
            सेजिया प कांट गडे,
तनवा में अगिया
              लगावऽता सवनवा ।
चुनरी सडकतऽ बाटे
             छतिया धड़कताऽ बाटे,
देशवा का ओरा काहे
                      गइलऽ सजनवा ।
तनवा में अगिया
              लगावऽता सवनवा----
करीं अब शबुरऽ कइसे
                  लागऽताटे तीर जइसे,
ननदी के बोलिया
                  घावाहिल करे मनवा ।
तनवा में अगिया
                  लगावऽता सवनवा ।
टुटलऽ पलानी नीक
                 होई नाहीं कवनो दीक,
खाइल जाई संगे
              जवन जुडी-मिली अनवा।
तनवा में अगिया
                   लगावऽता सवनवा ।
कठिनऽ जिअलऽ बाटे
                      रतिया धावे काटे,
देहिया में नइखे बांचल
                      खून एको कनवा ।
तनवा में अगिया
                    लगावऽता सवनवा ।
महल नाहीं गाडी चाहीं
                मांगब अब साडी नाहीं ,
तोहसे  बढी  पैणाली
                    नइखे कवनो धनवा।
तनवा में अगिया
                    लगावऽता सवनवा ।

दिलीप पैणाली
सैखोवाघाट
तिनसुकिया
असम।
९७०७०९६२३८

टिप्पणियाँ

  1. आहो दिलीप जी ! गुनगुनाय के मन हो रहल बा ! सुन्नर गीत खातिर साधुवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  2. जय-जय.....बहुत सुन्नर भाईजी.....जय-जय माईभाखा

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

1. पंकज यादवजी के दुगो कबिता (1, 58) - माईभाखा कबिताई प्रतियोगिता

सुनतानी जीं - माईभाखा कबितई प्रतियोगिता घोसित हो गइल।

अब कवितई (कविता प्रतियोगिता) के भाँजा