संदेश

2018 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

फगुआ (होरी गीत) संग्रह पहल प्रतियोगिता - 2018 के परिनाम

चित्र
प्रणाम बा... कवनो अच्छा, सकारात्मक काम में कबो देरी ना होला.....जय-जय

फगुआ (होरी गीत) संग्रह पहल प्रतियोगिता - 2018 के परिनाम रउआँ सब की सोझा राखत मन बहुते प्रसन्न बा। सबसे पहिले त हम ओ रचनाकार लोगन के सादर नमन करतानीं जे अपनी माईभाखा में लिखेला, ओकरी साथे-साथे ओ सब लोगन के, जे सकारात्मक रूप से माईभाखा के कवनो न कवनो तरे समरिध कइले में लागल बा। अरे एतने ना, सही तरे देखीं त सबसे अधिका धन्यवाद के पात्र त पाठक महानुभाव लोग बा, जे समय निकाली के रचचन के पढ़ेला।
आज माईभाखा भोजपुरी कवनो परिचय के मोहताज नइखे। एकर डंका देस का विदेसन में भी बज रहल बा। इ पूरा तरे बैग्यानिकता पर खरा उतरत हर जगहि आपन मिठऊ अउर सरल छाप छोड़ रहल बिया। अभोजपुरिया भी एकर होत चलि जाता लोग। दिन-दिन एकर दायरा बढ़त चलि जाता, इ समरिध होत चलि जा तिया पर हँ, इ हो बात सही बा की अपनी कुछ लोगन की चलते इ तनि उपेछित भी बिया..... एकरा अबहिन जहाँ रहे के चाहीं, उहां पहुँच नइखे पवले। खैर,
माइयो भाखा के अच्छा दिन आई, भोजपुरिया लोग दिल खोलि के एकर गुनगान गाई।
आपन बात- सबसे पहिले त हम 15गो मान्यवर कबिजी/गीतकार (जे आपन कबिता/गीत भेजले रहल ह) …

श्री धर्मदेव चौहानजी के कुछ अउर जोगीर्रा - जोगीर्रा सरSSररSS पहल प्रतियोगिता - 2018

चित्र
झाड़ू बाजे, बेलन बाजे और बाजे मृदंग।
जबसे चढ़ल फ़ागुन रोज कुटाला भसुर संघ। जोगिरा सारा रा रा र……..
कजरी, मोदी, राहुल देखनी अउर देखनी सहत्तर।        राजनीति में आके सभे बनी जाला बनच्चर। जोगिरा सारा रा रा र……..
के कटेला चना चबैना,के चाँपे रसगुल्ला।        के मारेला बेलन, के नाचेला खुल्लम खुल्ला। जोगिरा सारा रा रा र………
भईया काटें चना चबैना, भउजी रसगुल्ला।        भवही मारे बेलन, भसुर नाचें खुल्लम खुल्ला। जोगिरा सारा रा रा र………..
मोदी बनिहें पीएम मिली भोजपुरी के दर्जा।        कहिके चच्चा भूली गईलें हैं कहिया उत्तरी कर्जा। जोगिरा सारा रा रा र………..
भोजपुरी के मिली मान्यता गईहें छम्मक छल्लो।        असम वाली भउजी कहीहें चल्लो दिल्ली चल्लो। जोगिरा सारा रा रा र……..
केकर बाटे हरियर कुर्ता, केकर बाटे लाल। के पहिरेला सुट- सफारी, के भईल कंगाल। जोगिरा सारा रा रा र………
पप्पू जी के हरियर कुर्ता,

श्री धर्मदेव चौहानजी के जोगीर्रा (2,3,4,5) - जोगीर्रा सरSSररSS पहल प्रतियोगिता - 2018

चित्र
1- साहब तोहरा देश में भूखा बा इंसान l
 MDM के खिचड़ी खाके फुल गइल परधान l
जोगीर्रा सा रा रा रा ..........

2- बुआ जी के पाड़ा सनकल, पप्पू कसे लंगोट l
 भइया पड़ि गये गदहा पीछे, भऊजी मांगें वोट l
जोगीर्रा सा रा रा रा ..........

3- के मांगेला चना- चबैना , के मांगे मिठाई l
 केकरा चाहीं काम के सरियत ,केकरा मुंह देखाई l
जोगीर्रा सा रा रा रा .............

जनता मांगें चना -चबैना कारकर्ता मिठाई l
 भईया मांगें काम के सरियत, भऊजी मुंह देखाई l
जोगीर्रा सा रा रा रा ..........

4- जे जीती ऊ चानी काटी, जे हारी उ तिरकोल l
 कारकर्ता लोग भंटा बोईहें, जनता छिली ओल l
जोगीर्रा सा रा रा रा ..........

5- के लूटावे सोना चानी, के भइल कंगाल l
 के पहिरेला सूट-सोफारी, केकर बा भौकाल l
जोगीर्रा सा रा रा रा ..........

बुआ लुटावें सोना चानी, पपुआ भइल कंगालl 
 साहब पहीरें सूट सफारी, भक्ततन के भौकाल l
जोगीर्रा सा रा रा रा ..........

धर्मदेव चौहान

श्री निलेश मिसिरजी के जोगीर्रा (1) - जोगीर्रा सरSSररSS पहल प्रतियोगिता - 2018

चित्र
पूँछ पटकि के कुक्कुर खा, चाट-चाट बिलारि, सफाचट्ट कर नीरव खइने, खोज रहल सरकार......... जोगीरा सा रा रा रा श्री निलेश कुमार मिश्र पथरदेवा, देवरिया (मोबाइल - 9935290022)

जोगीर्रा सरSSररSS पहल प्रतियोगिता - 2018

चित्र
आपन मेहरी पेट ढंके, दूसरे के रखले रहे उघार,
इ हे आज के सोंच कबीरा, इ हे त बा संसार....जोगीर्रा सरss ररss....


जोगीर्रा सरSSररSS...पहल बा...बस की लोग अपनी भाखा में लिखे...खेल-खेल में लीखे..सब केहू लिखे....प्रतियोगिता ना पहल.....सुनतानीं...तनि एगो लल्लनटाप कुरताफाड़ जोगीर्रा लिख भेजीं...रउरी जोगीर्रा में नेतन के धोती खुलो चाहें गील होखो....भस्टाचार, बेरोजगारी के हवा खुलो भा...कवनो भी सामाजिक सरोकार...आपन गाँव दुआर के बात होखो.....लिख भेजीं...एगो एइसन जोगीर्रा जवने के अगिला फगुआ ले लोग गुनगनइले पर मजबूर होखे...जय-जय। prabhakargopalpuriya@gmail.com पर अपनी नाम, फोटो आदि की साथे मेल क दीं। जय-जय।


श्री कन्हैया प्रसाद रसिक जी के 1गो अउर होरी गीत (16) - फगुआ (होरी गीत) संग्रह पहल प्रतियोगिता - 2018

चित्र
डँसले बा करिया नाग ए सखी फागुन में ।।

डँसले बा करिया नाग ए सखी फागुन में ।।

पियवा जे रहिते तs बैदा बोलइते
गोदिया उठाके लहर उतरइते
देवरा भइल बाटे साग ए सखी फागुन में ।।
डँसले बा करिया नाग ए सखी फागुन में ।।

होली के लहरा सब कोई गावे
मारे दरद के कुछ नाहीं भावे
बाउर बा जोगिरा के राग ए सखी फागुन में ।।

डँसले बा करिया नाग ए सखी फागुन में ।।

मन बउराइल बा डेग डगमगाता
चढ़ेला लहरिया त तन छटपटाता
कइसे मनाइब अब फाग ए सखी फागुन में ।।
डँसले बा करिया नाग ए सखी फागुन में ।।


कन्हैया प्रसाद रसिक 
परिचय:- नाम- कन्हैया प्रसाद रसिक ग्राम- हथडीहाँ ,  पोस्ट- सकरी रामनगर ( हसन बाजार) जिला- रोहतास ( बिहार ) भूतपूर्व वायु सैनिक ( वारंट अफिसर ) कृति-  पथिक-पाथेय और ऊँ भ्रष्टाचाराय नम: ( हिन्दी में काव्य संग्रह ) मोबाइल नं. - 8867651348

श्री विद्या शंकर विद्यार्थी जी के 1गो अउर होरी गीत (15) - फगुआ (होरी गीत) संग्रह पहल प्रतियोगिता - 2018

चित्र
होली खेलन आये बिहारी, रे माई


होली खेलन आये बिहारी, रे माई  होली खेलन आये बिहारी, रे माई 
ब्रज के गलियन में शोर मचल बा  शोर मचल बा रे जोर मचल बा  चल$ता रंग पिचकारी, रे माई  होली खेलन आये बिहारी, रे माई |                       
केहू के रंगता तन के चुनरिया  तन के चुनरिया रे मन के चुनरिया  बरीज ना माने बिहारी, रे माई                              होली खेलन आये बिहारी, रे माई |
हमरो रे मनवा बा साध पुराइब साध पुराइब रे आज पुराइब  रंग दिहब हम बरियारी, रे माई  होली खेलन आये बिहारी, रे माई |                     
चलेला होली में होरी बलजोरी होरी बलजोरी रे होरी बलजोरी  जाई ना मन के खुमारी, रे माई होली खेलन आये बिहारी, रे माई |
विद्या शंकर विद्यार्थी

सुश्री निशा राय जी के 2गो होरी गीत (13, 14) - फगुआ (होरी गीत) संग्रह पहल प्रतियोगिता - 2018

चित्र
1. बहे लागल देख फगुनी बयार...चलऽना गुंइयाँ बगिया में  चह-चह चिरऽई चहकत होई  मह-मह मोजर महकत होई  पीयर  सरसो   लहकत होई धरती कइले होइहें सोलहो सिंगार..चलऽना गुंइयाँ बगिया में 
छिछली तलइया डाल के पऽइयाँ बइठल  जाई  पेड़     के  छऽइयाँ ओढ़ के बदरा बिछा के   भुऽइयाँ रिमझिम-रिमझिम बरसी अखियाँ से प्यार...चलऽ ना गुंइयाँ
रंगली   तोहरे  रंग   चुनरिया फागुन में हो गइलीं बावरिया अपनी नगरिया ले जा सँवरिया  फली फूली उंहवें नेहिया हमार...चलऽ ना गुंइयाँ बगिया में 

2.  चढ़ते फगुनवा में लोग बउरईले हाय रे फगुआ झूमे लगले गउँआ जेवार हाय रे फगुआ
साल सूइटर भउजी घामा में सुखऽवली मोटरी में बाँन्ह के मचानि पर चढ़ऽवली
पेन्ह लिहली साड़ी लहरेदार हाय रे फगुआ झूमें लगलें गउँआ जेवार हाय रे फगुआ
फगुनी बयार में बेमार भइल दुनिया घर से निकलला में डेराये लागल मुनिया
बिगड़ल समाज के बिचार हाय रे फगुआ  झूमे लगलें गउँआ जेवार हाय रे फगुआ  ----निशा राय  राम अवध नगर, खोराबार गोरखपुर, उत्तरप्रदेश पिन  273010 मो.न. 8542898686

श्री कन्हैया प्रसाद रसिक जी के 1गो अउर होरी गीत (12) - फगुआ (होरी गीत) संग्रह पहल प्रतियोगिता - 2018

चित्र
होलिया में अइते सजनवा

रचि रचि करितीं सिंगार,
होलिया में अइते सजनवा ।।

कजरा के कोर के कटाह हम बनइतीं
सैंयाजी के देख दाँते ओठवा चबइतीं
सेजिया पो लुटतीं बहार हो
आहे सेजिया पो लुटतीं बहार
होलिया में अइते सजनवा
रचि रचि करितीं सिंगार,
होलिया में अइते सजनवा ।।

प्यार के रंग उनका अंगे अंग लगइतीं
रकटल पियवा के जियरा जुड़इतीं
जाये ना दिहतीं बधार हो
आहे जाये ना दिहितीं बधार
होलिया में अइते सजनवा,
रचि रचि करितीं सिंगार ,
होलिया में अइते सजनवा ।।

देवरू जे अइते घुडुक के भगइतीं
ननदी के कान में संजीवनी चुवइतीं
सेजिया होइत गुलजार हो
आहे सेजिया होइत गुलजार
होलिया में अइते सजनवा
रचि रचि करितीं सिंगार
होलिया में अइते सजनवा ।।
कन्हैया प्रसाद रसिक 
परिचय:- नाम- कन्हैया प्रसाद रसिक ग्राम- हथडीहाँ ,  पोस्ट- सकरी रामनगर ( हसन बाजार) जिला- रोहतास ( बिहार )

श्री जगदीश खेतानजी के 1गो होरी गीत (11) - फगुआ (होरी गीत) संग्रह पहल प्रतियोगिता - 2018

चित्र
कबले होइहं गवनवा हमार
     कबले होइहं गवनवा हमार भउजी।      बाटे मौसम मे आइल खुमार भउजी।
     बसंती हवा चले देहीयां दुखाता।      कोइलर के बोलियो माहुर बुझाता।      नीक लागे ना पायल झंकार भउजी।      कबले होइहं गवनवा हमार भउजी।
     सरसो के खेतवा मता के पिअराइल।      आमन के बगिया बा खूबे मउराइल।      सून्न लाग$ता सगरो जवार भउजी।      कबले होइहं गवनवा हमार भउजी।
     अपने बहिन से  बियाह रचवइलू।      ओकरे बाद आजू ले ना बोलवलू।      भइल फागुन मे हमके बुखार भउजी।      कबले होइहें गवनवा हमार भउजी।
     अब गवना करा द तोहार गुन गाइब।      लइकन के तोहरे खेलाइब घुमाइब।      दिन काटल भइल बा पहाड़ भउजी।      कबले होइहं गवनवा हमार भउजी।
- श्री जगदीश खेतान

श्री आशुतोष पाण्डेय उर्फ आशु बाबा के 1गो होरी गीत (10) - फगुआ (होरी गीत) संग्रह पहल प्रतियोगिता - 2018

चित्र
माथवा प लेके सँवरु रंग के गगरिया...

माथवा प लेके सँवरु रंग के गगरिया हम कईसे के आईं ना,
सोझा बाटे मजबूरिया हम कईसे के आईं ना।
सुना हो ईयार याद तोहर बाडा आवेला,मनवा हमार हहर हहर रही जावेला।
मिले खाती आई जा ना गली के कगरिया,हम कईसे के आईं ना.......।टेक।
कवनो जतन हमरा कामे ना आवता,पापा माई भाई सब अँखिया देखावता,छोटका भईयावा बाटे हमारा पंजरिया,हम कईसै आईं ना..........।टेक।
सुत सब जाई तब मिले हम आईब,आशु बाबा बहरी से कुंडी लगाईब।
साजी के प्रशांत रखिह देशी पिचकरिया,हम कईसे आईं ना...........।टेक।

-श्री आशुतोष पाण्डेय उर्फ आशु बाबा

श्री कन्हैया प्रसाद रसिक जी के 1गो होरी गीत (09) - फगुआ (होरी गीत) संग्रह पहल प्रतियोगिता - 2018

चित्र
गोरिया करिके सिंगार

गोरिया करिके सिंगार
छने छने देखेली सुरतिया

बिंदिया लगाके गोरी निंदिया उड़वली
कजरा कटाह से कटारी चलवली
लामी लामी केशिया के झार हो
आहे लामी लामी केशिया के झार
छने छने देखेली सुरतिया
गोरिया करिके सिंगार
छने छने देखेली सुरतिया।।

कनवा में नीक लागे झुमका तितल्ला
नथुनी मचावे रोज चलला प हल्ला
ओठवा से चुवे रसधार हो
ओठवा से चुवे रस धार
छने छने देखेली सुरतिया
गोरिया करिके सिंगार
छने छने देखेली सुरतिया।।

बूटीदार सड़िया प छोटे छोटे बूना
गोरिया के रूप बाटे लाख में नमूना
चमकेला हीरावा के हार हो
चमकेला हीरावा के हार
छने छने देखेली सुरतिया
गोरिया करिके सिंगार
छने छने देखेली सुरतिया।।

कन्हैया प्रसाद रसिक 
परिचय:- नाम- कन्हैया प्रसाद रसिक ग्राम- हथडीहाँ ,  पोस्ट- सकरी रामनगर ( हसन बाजार) जिला- रोहतास ( बिहार ) भूतपूर्व वायु सैनिक ( वारंट अफिसर ) कृति-  पथिक-पाथेय और ऊँ भ्रष्टाचाराय नम: ( हिन्दी में काव्य संग्रह ) मोबाइल नं. - 8867651348

श्री विद्या शंकर विद्यार्थी के 1गो अउर होरी गीत (08) - फगुआ (होरी गीत) संग्रह पहल प्रतियोगिता - 2018

चित्र
शिव शंकर के धमवा में फाग

शिव शंकर के धमवा में फाग, 
गऊरा भांग पिसेली.....  रखिये भभूतिया से खेले महादेव जी  धमवा में जुटल बाड़े रिसी मुनी देवजी
पिये पिआये भोला भांग, गऊरा..... |
भंगिया त भंगिया धतुरवो पिसाला  खोअवा बरफिया में मन से मिसाला  होली के कढ़ावल जाला राग, गऊरा..... |
भोला बाबा नाचेलन डमरूआ बजावेलन संगे  संगे रिसी  मुनी  मस्ती  में गावेलन मचल कैलाश पर बा फाग, गऊरा..... |
चल$ता बेअरिया मच$लता बेयरिया     भूत बैतलवा मार$ता सिसिकरिया बिहँसेली हो गऊरा बेलाग, गऊरा...... |
विद्या शंकर विद्यार्थी  C/0  डॉ0 नन्द किशोर तिवारी                       निराला साहित्य मंदिर बिजली शहीद सासाराम जि - रोहतास (बिहार)  पिन 821115 

श्री मुकेश कुमार ऋषि वर्मा के 1गो होरी गीत (07) - फगुआ (होरी गीत) संग्रह पहल प्रतियोगिता - 2018

चित्र
फगुनवा आई
--------------
फगुनवा आई
मनवा लेत हिलोर
दिवरा भरी पिचकारी मारी भोर... फगुनवा आई
देखी बार-बार तबहुं जी ना भरे
ऊपर से नीचे तक दई रंग तऊ जाने कूं मन ना करे... फगुनवा आई
अँगनवा फूल खिलल
तन-मन खुश्बू बिखरल... फगुनवा आई
मोरी चुनरी करी उत्पात
कछु ठीक नहीं हालात... फगुनवा आई
जी चाही पिया संग करी अंखियां चार
पिया चली गयी सात समुंदर पार... फगुनवा आई
रूप-रंग निखरी
तोहके याद पिया मन बिखरी... ----------
परिचय :-
मुकेश कुमार ऋषि वर्मा पिता - श्री पूरन सिंह जी
माता - श्रीमती रामा देवी जी
जन्म - 05/08/1993
शिक्षा - एम. ए., आई. जी. डी. बॉम्बे व पांच प्रमाण पत्रीय कोर्स
सम्मान - सैकडों
प्रकाशन - आजादी को खोना ना, संघर्ष पथ (काव्य पुस्तिकाएं) साथ ही देश-विदेश की सैकडों पत्र - पत्रिकाओं में, इंटरनेट पर, सोशल मीडिया में हजारों रचनाएं प्रकाशित
रूचियाँ - पत्रकारिता, अभिनय, पेंटिंग, लेखन आदि
सदस्य - कई सामाजिक, साहित्यिक, राजनैतिक, धार्मिक, कलात्मिक संस्थाओं में
अध्यक्ष - बृजलोक साहित्य-कला-संस्कृति अकादमी
संचालक - ऋषि वैदिक साहित्य पुस्तकालय
मुख्य आजीविका - कृषि-मजदूरी (मूलत् बेरोजगार)
पता - ग्राम रिहावली, डाक तारौली गुर्जर, तहसी…

श्री लाल बिहारी लाल के 1गो होरी गीत (06) - फगुआ (होरी गीत) संग्रह पहल प्रतियोगिता - 2018

चित्र
भांग खाके भउजी पगला गइली
भांग खाके भउइजी पगला गइली देख देवरे पर अब त लुभा गइली
फागुन के रंग में गइल बारी रंगाई करे ना असर अब कवनो दवाई देख लोक लाज सब ई भुला गइली देख देवरे पर अब.........
पोरे-पोरे रंग में रंगाइल बा देहिया ससुर भसुर से अब लगावेली नेहिया देख केतना से नेहिया लगा गइली देख देवरे पर अब...........
गतर-गतर रंग डलिहे जब सजानवा तब जाके भरी भउजी के ई मानवा देवरा लाल बिहारी पर लुभा गइली देख देवरे पर अब...........
लाल बिहारी लाल ग्राम +पो.सोनहो बाजार, छपरा बिहार- 841460 फोन- 07042663073 (दिल्ली)

श्री दिलीप पैणाली के 1गो होरी गीत (05) - फगुआ (होरी गीत) संग्रह पहल प्रतियोगिता - 2018

चित्र
उड़ी कइसे अबीर उड़ी कइसे अबीर  कहऽ बलम परदेसिया
साल-माथ के परब अइलऽ नाहीं घरवा, तहरा बिन जाई करब का नइहरवा  फगुआ बढ़ावेला पीड़ हो कहऽ बलम परदेसिया उड़ी कइसे अबीर ।
भौंरा खेलत बारें कलियन के संगवा, देखी-देखी हमरो कुहुके सईंया मनवा । अंखियन से ढ़रकता नीर हो कहऽ बलम परदेसिया उड़ी कइसे अबीर ।
जइसे खेलेलें अजय धौला में होरी, पैणाली दिलीप संगे करे बलजोरी । मन मोर होता अधीर,  कहऽ बलम परदेसिया, उड़ी कइसे अबीर ।
दिलीप कु.पाण्डेय
उर्फ दिलीप पैणाली 
सैखोवाघाट, तिनसुकिया, असम
९७०७०९६२३८